aka

एयरफोर्स बाल भारती स्कूल बच्चो के भविष्य से कर रहा है खिलवाड़ , एडवोकेट अशोक ने हाईकोर्ट में की याचिका दायर ।

एयरफोर्स बाल भारती स्कूल ने बच्चों की फीस न दिए जाने के कारण बच्चों को स्कूल से निकालने की दी धमकी , एडवोकेट अशोक अग्रवाल ने हाईकोर्ट में की याचिका दायर । सुनवाई होगी आज

एयरफोर्स बाल भारती स्कूल ने वहाँ पढ़ रहे लगभग 10 बच्चो की फीस न जमा होने पर स्कूल से निकालने की धमकी दी है । बच्चो के माता-पिता से धमकी देते हुए कहा कि तत्काल फीस जमा कराये अन्यथा की स्थिति में बच्चों को ट्रांसफर सर्टिफिकेट दे दिया जाएगा । धारा 167 दिल्ली एजुकेशन एक्ट 1973 के तहत स्कूल से निकाल दिया जाएगा ।

बच्चो के माता-पिता ने जब स्कूल से बात की तो स्कूल ने धमकी देते हुए पढ़ाने से मना कर दिया । बच्चो की और उनके माता पिता की इस समस्या को देखते पेरेंट्स एसोसिएट ने इस सम्बंध में स्कूल से बात की और पत्र भी लिखा लेकिन एयरफोर्स बाल भारती स्कूल अपनी जिद पर ही अड़ा रहा ।

अभी भी स्कूल ,बच्चो को लगातार मैसेज कर रहा है ,की फीस जमा कराये नही तो ट्रान्सफर सर्टिफिकेट दे दिया जाएगा। परेशान होकर बच्चों के माता-पिता ने इस परेशानी को एडवोकेट अशोक अग्रवाल के समक्ष रखा और उनसे से मदद मांगी । जिसके बाद एडवोकेट अशोक अग्रवाल ने दिल्ली उच्च न्यायालय में इस विषय पर याचिका दायर की है ।

एडवोकेट अशोक अग्रवाल ने कहा है कि ये बच्चे ईडब्लूएस कैटिगरी के छात्र है , अत: जो भी स्कूल सरकारी जमीन पर है ,उन्हें स्कूल की 20 प्रतिशत बच्चो को कक्षा 12 तक ऐसे बच्चों को मुफ्त में पढ़ाना होगा जो ईडब्लूएस कैटिगरी में आते है । एडवोकेट अशोक अग्रवाल ने ये भी बताया कि पहले भी दिल्ली उच्च न्यायालय के दखल अंदाजी के बाद दिल्ली सरकार ने 25 जनवरी 2007 को एक नोटिफिकेशन निकाला था । जिसमे सरकारी जमीन पर स्थित स्कूलों को 20 प्रतिशत कोटा ईडब्लूएस कैटिगिरी के लिए बच्चो को 12 बी क्लास तक मुफ्त में शिक्षा देने का प्रवधान दिया गया था ।

अत: एयरफोर्स बाल भारती स्कूल का ये कृत्य अनुचित व असंबैधानिक है और आरटीई कानून का भी उलंघन करता है । इस पर दिल्ली हाईकोर्ट में बच्चों के आवेदन पर आज सुनवाई रखी गई है । बच्चो की तरफ से एडवोकेट अशोक अग्रवाल ने याचिका दायर की है । जिसमे बच्चो का ईडब्लूएस कैटिगरी के तहत स्कूल में एडमिशन व 12 बी क्लास तक बच्चो के लिए निःशुल्क पढाई की मांग की है ।

Tags: No tags

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *