ece73521-7755-439b-9da3-16c7185c8993

अलीगढ़ : डीएस कॉलेज के कुछ छात्र नेताओ में पनप रही समाज को बांटने वाली तालिबानी मानसिकता- रुबीना खानम

सपा की पूर्व महानगर अध्यक्ष एवंम प्रमुख समाजसेवी रुबीना खानम ने डीएस कॉलेज के कुछ छात्र नेताओं दुआरा मुस्लिम छात्र छात्राओं के टोपी और बुरका पहन कर आने पर रोक की मांग को लेकर कहा कि डीएस कॉलेज के कुछ छात्र नेताओं में तालिबानी मानसिकता पनप रही है। यह समाज को बांटने वाली संकीर्ण मानसिकता है। जो घोर निन्दनीय है इस देश के प्रत्येक नागरिक को संविधान ने धार्मिक स्वंत्रता प्रदान की है। हर धर्म वर्ग समुदाए के व्यक्ति को यह अधिकार है कि वह अपनी धार्मिक वेशभूषा धारण कर सके जब कोई तिलक लगाकर कॉलेज जा सकता है। जब कोई पगड़ी पहनकर कॉलेज में प्रवेश कर सकता है तो केवल बुरका और टोपी से ही आपत्ति क्यों है।

डीएस कॉलेज प्रशासन को यह स्पष्ट करना चाहिए की ऐसी समाज को तोड़ने वाली साम्प्रदायक मानसिकता वाले छात्र नेताओं पर डीएस कॉलेज प्रशासन क्यों अभी तक कोई ठोस कार्रवाई नही करता। समाज में अलगाव एवंम भेदभाव फैलाने वाले लोगो को आपने कियु शरण दे रखी है। हम डीएस कॉलेज प्रशासन से यह मांग करते है। एक ज़िम्मेदार शैक्षिक संस्थान होने का परिचय देते हुए ऐसे छात्र नेताओं को चिन्हित कर कॉलेज से बाहर करे ताकि शिक्षा के मंदिर की गरिमा एवंम विद्यार्तियो में भाईचारा बना रहे। साथ ही अलीगढ़ प्रशासन को भी ऐसे तथाकथित छात्र नेताओं पर नज़र रखनी चाहिए जिस्से वह लोग शिक्षा के पवित्र मंदिरों में बच्चो के बीच धर्म की उन्मादी राजनीती का विष न फैला सके।

Tags: No tags

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *